तरणताल के  पिछवाड़े, फ़ूड कोर्ट प्रांगण  में स्थापित ‘हास्य चौबारे’ पर हर वर्ष की तरह पं. ओम व्यास ‘ओम’ को अनूठे अंदाज में श्रद्धासुमन अर्पित किये गए | मैगी विदाई दिवस के रूप में ‘मैगी के अग्नि संस्कार और उठावने’ की रस्म के साथ ‘मैगी-रूदन’ किया गया | इस अवसर पर पं. ओम को आदंराजली देले के लिए दादा मनोहर बैरागी, डॉ. पिल्केंद्र अरोरा, अरविन्द सनन , सुरेन्द्र सर्किट, मुकेश जोशी, सुगनचन्द्र जैन, शकेब कुरैशी, मनोहर गुप्ता, अजीत पोरवाल, गजेन्द्र मेहता, देवेन्द्र पुरोहित, दिनेश रावल, ज्ञानेश सोनी, प्रशांत अंजाना और तमाम इष्टमित्र मौजूद थे | संचालन स्वामी शैलेन्द्र व्यास ने मुस्कुराते हुए किया