Posts in category ताज़ा चिठ्ठे


ताज़ा चिठ्ठेमंथनमुखपृष्ठविशेषशहर

पचास साल पहले : उज्जैन | डाॅ.मुरलीधर चाँदनीवाला

1-1955-56 में हमारा परिवार सतीगेट से सटे हुए मकान में रहता था।नीचे जनसेवा केमिस्ट की दुकान थी। दूसरे आमचुनाव के दौर में वहाँ श्री बाबूलाल …

Read more 0 Comments
इतिहासताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठशहर

संस्कृतिमवन्ती अवन्तिका : डॉ. पवन व्यास

हमारी उज्जयिनी प्राचीन काल से ही शिक्षा का महत्त्वपूर्ण केन्द्र रही है । मुझे ऐसा लगता है कि ’गुरुभूमि’ के रूप में संसार में इसकी …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेनौ रत्नमुखपृष्ठविशेषसाहित्य

वराहमिहिर : डाॅ. मुरलीधर चाँदनीवाला

वराहमिहिर तुम पहले व्यक्ति हो वराहमिहिर! जो अवन्तिका से निकले तो फैल गये अखंड भारत में, उज्जयिनी में नहीं होकर भी तुम उज्जयिनी में रहते …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमंथनमुखपृष्ठविशेषसाहित्य

कहाँ जाऊँ, दिल्ली या उज्जैन ? – निरंजन श्रोत्रिय

कहाँ जाऊँ, दिल्ली या उज्जैन ? मेरा सिर गरम है इसीलिये भरम है सपनों में चलता है आलोचन विचारों के चित्रों की अवलि में चिन्तन। …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेनौ रत्नमुखपृष्ठविशेषसाहित्य

भर्तृहरि : डाॅ.मुरलीधर चाँदनीवाला

भर्तृहरि —— भर्तृहरि लौट-लौट आते हैं अवन्ती में, खड़े होते हैं कल्पलता के नीचे कभी मौन,कभी मुखर। वैराग्य के जंगल में महाकाल-वन नहीं होता, शिप्रा …

Read more 0 Comments
जैव विविधताताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठविशेष

उज्जैन : जैव विविधता : नौलखी इको टूरिज्म पार्क

उज्जैन की जैव विविधता को दर्शाता  वन विभाग, उज्जैन का एक अद्भुत प्रयास वन विभाग , उज्जैन द्वारा १० वर्षों के अथक प्रयासों से विकसित …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमंदिरमुखपृष्ठविशेष

एक अनोखा कलाकार : राजेश नागर

आपने बहुत से कलाकार देखे होंगे, आईये आज हनुमान अष्टमी के अवसर पर आपको मिलवाते है एक अनोखे कलाकार से जो ‘चोला’ श्रृंगार करते है …

Read more 0 Comments
जैव विविधताताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठविशेष

उज्जैन के प्रवासी पक्षी

Bar Headed Geese & Rudy Shelduck (Flying) – Across Himalaya All the way to Ujjain.   ‘मेघदूत’ में महाकवि कालिदास ने उज्जयिनी का सुंदर वर्णन …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठसाहित्य

हे उज्जयिनी! तू बुला ले अपने पास।

  डाॅ.मुरलीधर चाँदनीवाला   बरसों से भटक रहा हूँ इधर-उधर जीवन बहती नदी की तरह निकल गया बहुत आगे, अब बैठता हूँ अकेले में तब याद …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठशहर की हस्तियाँसंस्कृत कवितायेँ

उज्जयिनी जयते : आचार्य श्रीनिवास रथ

— महाकालपूजास्वरललिता कालिदासकविताकोमलता भुवनमलंकुरुते। उज्जयिनी जयते।। — सान्दीपनिसन्दीपितसंस्कृति-शिक्षापरम्परा प्रतिपलमञ्जुलदीपशिखोज्ज्वलमंगलनाथधरा। देवलोकरुचिरा गगनतले ललिते उज्जयिनी जयते।। — उदयनवीणावादनपुलकितवदना संकुचिता वासवदत्ता चकिताऽऽकुलिता सुप्तेवालिखिता। प्रणयरसाकुलिता मनसा मन्त्रयते। उज्जयिनी जयते।। …

Read more 0 Comments