Posts in category साहित्य


ताज़ा चिठ्ठेनौ रत्नमुखपृष्ठविशेषसाहित्य

वराहमिहिर : डाॅ. मुरलीधर चाँदनीवाला

वराहमिहिर तुम पहले व्यक्ति हो वराहमिहिर! जो अवन्तिका से निकले तो फैल गये अखंड भारत में, उज्जयिनी में नहीं होकर भी तुम उज्जयिनी में रहते …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमंथनमुखपृष्ठविशेषसाहित्य

कहाँ जाऊँ, दिल्ली या उज्जैन ? – निरंजन श्रोत्रिय

कहाँ जाऊँ, दिल्ली या उज्जैन ? मेरा सिर गरम है इसीलिये भरम है सपनों में चलता है आलोचन विचारों के चित्रों की अवलि में चिन्तन। …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेनौ रत्नमुखपृष्ठविशेषसाहित्य

भर्तृहरि : डाॅ.मुरलीधर चाँदनीवाला

भर्तृहरि —— भर्तृहरि लौट-लौट आते हैं अवन्ती में, खड़े होते हैं कल्पलता के नीचे कभी मौन,कभी मुखर। वैराग्य के जंगल में महाकाल-वन नहीं होता, शिप्रा …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठसाहित्य

हे उज्जयिनी! तू बुला ले अपने पास।

  डाॅ.मुरलीधर चाँदनीवाला   बरसों से भटक रहा हूँ इधर-उधर जीवन बहती नदी की तरह निकल गया बहुत आगे, अब बैठता हूँ अकेले में तब याद …

Read more 0 Comments
ताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठशहर की हस्तियाँसंस्कृत कवितायेँ

उज्जयिनी जयते : आचार्य श्रीनिवास रथ

— महाकालपूजास्वरललिता कालिदासकविताकोमलता भुवनमलंकुरुते। उज्जयिनी जयते।। — सान्दीपनिसन्दीपितसंस्कृति-शिक्षापरम्परा प्रतिपलमञ्जुलदीपशिखोज्ज्वलमंगलनाथधरा। देवलोकरुचिरा गगनतले ललिते उज्जयिनी जयते।। — उदयनवीणावादनपुलकितवदना संकुचिता वासवदत्ता चकिताऽऽकुलिता सुप्तेवालिखिता। प्रणयरसाकुलिता मनसा मन्त्रयते। उज्जयिनी जयते।। …

Read more 0 Comments
साहित्यहिंदी व्यंग्य

मुण्डन

किसी देश की संसद में एक दिन बड़ी हलचल मची। हलचल का कारण कोई राजनीतिक समस्या नहीं थी, बल्कि यह था कि एक मंत्री का अचानक …

Read more 0 Comments
साहित्यहिंदी लघुकथाएं

मलबे का मालिक

मोहन राकेश साढ़े सात साल के बाद वे लोग लाहौर से अमृतसर आये थे। हॉकी का मैच देखने का तो बहाना ही था, उन्हें ज़्यादा …

Read more 0 Comments
साहित्यहिंदी लघुकथाएं

गिल्लू

महादेवी वर्मा सोनजुही में आज एक पीली कली लगी है। इसे देखकर अनायास ही उस छोटे जीव का स्मरण हो आया, जो इस लता की …

Read more 0 Comments
साहित्यहिंदी लघुकथाएं

गत्ती भगत

भैरव प्रसाद गुप्त उस दिन जिधर सुनो, गाँव में छोटे-बड़े सभी के मुँह से अफ़सोस और ताज्जुब के साथ एक ही बात सुनाई दे रही …

Read more 0 Comments
साहित्यहिंदी लघुकथाएं

अनमोल भेंट

रवीन्द्रनाथ टैगोर रायचरण बारह वर्ष की आयु से अपने मालिक का बच्‍चा खिलाने पर नौकर हुआ था। उसके पश्चात् काफ़ी समय बीत गया। नन्हा बच्‍चा …

Read more 0 Comments