Posts in category इतिहास


इतिहासताज़ा चिठ्ठेमुखपृष्ठशहर

संस्कृतिमवन्ती अवन्तिका : डॉ. पवन व्यास

हमारी उज्जयिनी प्राचीन काल से ही शिक्षा का महत्त्वपूर्ण केन्द्र रही है । मुझे ऐसा लगता है कि ’गुरुभूमि’ के रूप में संसार में इसकी …

Read more 0 Comments
इतिहासमुखपृष्ठविशेषशहर

उज्जयिनी : लगभग पन्द्रह सौ साल पहले

अस्ति सकलत्रिभुवनललामभूता,प्रसवभूमिरिव कृतयुगस्यात्मनिवासोचिता भगवता महाकालाभिधानेन भुवनत्रयसर्गस्थितिसंहारकारिणाप्रमथनाथेनेववापरेव••••विजितामरलोकद्युतिरवन्तीषूज्जयिनी नाम नगरी। उपन्यासकार बाणभट्ट ,620 ईस्वी की कृति कादम्बरी में उल्लेखित उज्जयिनीवर्णन पर आधृत   — तीनों लोकों में …

Read more 0 Comments
इतिहासमुखपृष्ठविशेष

मोक्षदायनी क्षिप्रा

क्षिप्रा नदी का काफी पौराणिक महत्‍व है और यह मध्य प्रदेश की धार्मिक और ऐतिहासिक नगरी उज्जैन से होकर गुजरती है। उज्जैन की क्षिप्रा नदी, …

Read more 0 Comments
इतिहासताज़ा चिठ्ठेमंदिरमहाकालेश्वरशहर

श्री महाकालेश्वर मंदिर

आकाशे तारकं लिंगं पाताले हाटकेश्वरम् । भूलोके च महाकालो लिंड्गत्रय नमोस्तु ते ॥ अर्थात आकाश में तारक लिंग, पाताल में हाटकेश्वर लिंग तथा पृथ्वी पर महाकालेश्वर …

Read more 0 Comments
इतिहासदर्शनीय स्थलमुखपृष्ठशहर

वीर दुर्गादास की छतरी | Veer Durgadas Ki Chhatri

वीर दुर्गादास की छतरी, मंदिरों उज्जैन के शहर में स्थित एक विशिष्ट स्मारक है। यह स्मारक छतरी के रूप में वीर दुर्गादास की याद में बनवाया …

Read more 0 Comments
इतिहासनौ रत्नमुखपृष्ठ

देवताओं के ऋषि : सांदीपनि

सांदीपनि परम तेजस्वी तथा सिद्ध ऋषि थे, सांदीपनि, का अर्थ ‘देवताओं के ऋषि’  होता है | उज्जैन ऋषि सांदीपनि की तप स्थली रही | यहां महर्षि ने …

Read more 0 Comments
इतिहासमुखपृष्ठविशेष

उज्जैन -काल गणना का केंद्र

काल की चर्चा हो तो एक स्थान का उल्लेख अवश्यंभावी हो जाता है और वह है महाकाल की  नगरी उज्जैन | समय अर्थात काल को …

Read more 0 Comments
इतिहासमहाकालेश्वरमुखपृष्ठविशेष

पं. राजशेखर व्यास द्वारा निर्देशित वृत्तचित्र ‘काल’

उज्जैन पर आधारित पंडित राजशेखर व्यास द्वारा निर्देशित डॉक्युमेंट्री फिल्म ‘काल’ | 3GP फॉर्मेट में ताकि आप इसे मोबाइल पर भी डाउनलोड कर देखें और …

Read more 0 Comments
इतिहासमुखपृष्ठविशेष

भारत का प्राचीन भू-गर्भ जल विज्ञान : बृहत्संहिता – वराहमिहिर

सुप्रसिद्ध ज्योतिर्विद वराहमिहिर की बृहत्संहिता में एक उदकार्गल (जल की रुकावट) नामक अध्याय है। 125 श्लोकों के इस अध्याय में भूगर्भस्थ जल की विभिन्न स्थितियाँ …

Read more 0 Comments
इतिहासमुखपृष्ठविशेषसिंहस्थ २०१६

विक्रमादित्य के नौ रत्न – वराहमिहिर

वराहमिहिर (वरःमिहिर) ईसा की पाँचवीं-छठी शताब्दी के भारतीय गणितज्ञ एवं खगोलज्ञ थे। उज्जैन के समीप कापित्थक अथवा ‘कपिथा (वर्तमान में कायथा) में उनके द्वारा विकसित …

Read more 0 Comments